अखिलेश पर योगी सरकार का पलटवार ’चोर की दाढ़ी में तिनका’

बंगला विवाद पर यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सफाई के बाद भारतीय जनता पार्टी ने पलटवार किया है. यूपी सरकार के मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि जब चोर की दाढ़ी में तिनका होता है, तो वह बौखलाया रहता है. साथ ही उन्होंने ये भी  सवाल उठाए कि आखिरकार दीवार के पीछे क्या था, वो जरूर बताइएगा. आखिरकार क्या छुपाया था जिसे निकालना जरूरी था?

सिद्धार्थनाथ सिंह ने अखिलेश यादव पर टिप्पणी करते हुए कहा कि जो शिक्षा उन्हें मिली है, उस हिसाब से उनकी सभ्य भाषा होनी चाहिए थी. लेकिन उन्होंने ऐसा बर्ताव नहीं किया. उन्होंने कहा कि हम अखिलेश के बयान की भर्त्सना करते हैं और 'खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे' की संज्ञा देते हैं.

अखिलेश ने अपनी सफाई में कहा था कि अगर जांच रिपोर्ट में सरकारी पैसे से सामान की बात साबित हो जाए तो वह वापस करने के लिए तैयार हैं. अखिलेश ने दावा किया है कि वह खुद सामान ले गए थे. इस पर सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि अगर आपने अपना पैसा लगाया है तो उसका इनकम टैक्स में हिसाब किताब देना चाहिए.

प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि अखिलेश यादव कहते हैं कि उस बंगले को मैंने अपने पैसे से सजाया था. आप सभी लोगों ने बंगले के अंदर की तस्वीर देखी होगी. बंगले की सजावट पर कितना रुपया खर्च किया गया था, और ये पैसा कहां से आया, अखिलेश यादव को इसपर जवाब देना चाहिए. उन्होंने कहा कि यह काम इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को करना चाहिए कि, अगर उन्होंने अपने पैसे से बंगले को सजाया था तो वह कितनी राशि थी. क्या IT डिपार्टमेंट को इसके बारे में जानकारी थी?

प्रेस कॉन्फ्रेंस में अखिलेश ने टोंटी दिखाते हुए कहा कि एक लैपटॉप की कीमत से ज्यादा टोंटी की कीमत नहीं है. उन्होंने कहा कि बंगले में जो मंदिर है वो हमने बनवाया था. हमें मेरा मंदिर लौटा दो. उन्होंने कहा, ‘मैं उन मीडियाकर्मियों का शुक्रिया अदा करता हूं, जिन्होंने मेरा मंदिर दिखाया और मेरे बच्चों का कमरा दिखाया’.