सोमवती अमावस्या आज, जरूर कीजिए ये काम हो जायेंगे हर दुविधा दूर

नई दिल्ली: जब सोमवार को अमावस्या होती है तो उसे सोमवती अमावस्या कहा जाता है। ऐसी अमावस्या का शास्त्रों में काफी अधिक महत्व बताया गया है। इस दिन किये जाने वाले उपायों का शीघ्र फल प्राप्त होता हैं। यहां हम आपको सोमवती अमावस्या के दिन किए जाने वाले कुछ उपाय बताने जा रहे हैं। इन्हें करने से गरीबी और दरिद्रता दूर होती है साथ ही सुख व समृद्धि का आगमन होता है। सोमवती अमावस्या के दिन सूर्य नारायण को अर्घ्य देना अतिउत्तम बताया गया है। ऐसा करने से गरीबी और दरिद्रता दूर होती है।

आज है सोमवती अमावस्या, शास्त्रों में कहा गया है कि नदी या सरोवर में प्रात: स्नान कर भगवान सूर्य को अर्घ्य देने से अमोघ फल प्राप्त होता है। खासकर अमावस्या और सोमवती अमावस्या का यह पुण्य को कई हजार गुना बढ़ा देता है। सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। ये वर्ष में लगभग एक अथवा दो ही बार पड़ती है।  विवाहित स्त्रियों द्वारा इस दिन अपने पतियों के दीर्घायु कामना के लिए व्रत का विधान है। इस दिन मौन व्रत रहने से सहस्र गोदान का फल मिलता है।

पति की लंबी उम्र के लिए स्त्रियां रखती हैं व्रत

ये व्रत खास करके विवाहित स्त्रियां को रखना चाहिए क्यों की मान्यता है कि इस दिन मौन व्रत रहने से सहस्त्र गोदान का फल प्राप्त होता है। इस दिन विवाहित स्त्रियां पीपल के वृक्ष को शिवजी का वास मानकर दूध, जल, फूल, अक्षत, चन्दन से पूजा करती हैं और चारो ओर 108 बार धागा लपेटकर परिक्रमा करती हैं।

अमावस्या का दिन पितरों को समर्पित

काशी के पंडित दिवाकर शास्त्री के मुताबिक अमावस्या का दिन पितरों को समर्पित है और आज के दिन विशेष पूजा का विधान है, भगवान का ध्यान करें। घर में धूप और अगरबत्ती जलाकर रखें।

भगवान सूर्य को अर्घ्य

शास्त्रों में कहा गया है कि माघ और पौष के महीने में नदी या तालाब में भगवान को सूर्य को अर्घ्य देने से मनचाहा फल प्राप्त होता है। खासकर सोमवती अमावस्या के दिन ऐसा करने से ये पुण्य कई गुणा बढ़ जाता है।