नई बोलेरो की पूजा कराने गए श्रद्धालुओं से भरी गाड़ी, गन्ना लदी ट्रैक्टर-ट्रॉली में जा घुसी जिसमे 2 की मौत

लखनऊ: विज्ञान ने मनुष्य को सुख सुविधा के अनेक साधन उपलब्ध कराये हैं जिससे जीवन सरल और सुगम हो गया है। मगर इसके साथ साथ यह उतना ही अनिश्चित और असुरक्षित भी हो गया है। यातायात के साधनों में बेतहाशा वृद्धि के कारण दुर्घटनाओं में भी उतनी ही वृद्धि हुयी है। घर से बाहर जा रहा व्यक्ति सकुशल वापस आयेगा या नहीं- यह विश्वास कोई नहीं दिला सकता। गलती किसी से कहीं भी हो सकती है। लेकिन सड़क पर उसकी कीमत जान देकर चुकानी पड़ती है। ऐसे में ये एक घटना सामने आया है।

ये हादसा सीतापुर के मिश्रिख इलाके का है। जानकारी के मुताबिक, बुधवार देर रात श्रद्धालुओं से भरी बोलेरो, गन्ना लदी ट्रैक्टर-ट्रॉली में जा घुसी। ये दर्दनाक हादसे में बोलेरो सवार पिता-पुत्री दोनों की मौत हो गई, जबकि आठ लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। सभी लोग नैमिषारण्य से दर्शन कर गाड़ी में सवार होकर लौट रहे थे। सभी घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के मुताबिक, सीतापुर शहर कोतवाली क्षेत्र के रामकृष्णपुरी निवासी राघवेंद्र सिंह ने अभी अभी नई बोलेरो खरीदी थी। नई बोलेरो गाड़ी की पूजा कराने के लिए बुधवार यानि कल को राघवेंद्र, पत्नी उमा और पूरे परिवार के साथ बोलेरो में सवार होकर नैमिषारण्य पहुंचे थे। इसी बीच सभी परिवार पूजन-दर्शन कर देर रात लौट रहे थे।

जानकारी के मुताबिक, जब सभी परिवार पूजन-दर्शन कर देर रात लौट रहे थे करीब एक बजे गाड़ी जब मिश्रिख कोतवाली क्षेत्र के बर्मी चौराहे के पास पहुंची तभी अचानक सड़क किनारे खड़ी ट्रैक्टर-ट्रॉली में पीछे से जा घुसी। उस  ट्रैक्टर-ट्रॉली में गन्ना लदा था। इसी दौरान हादसे की आवाज सुनकर गांव के लोग भाग भाग कर वहां पहुंचे। जैसे ही पुलिस को भी इस बात की सूचना मिली तब जांच शुरू कर दी। पुलिस और ग्रामीणों की मदद से घायलों को बाहर निकलवाया लेकिन तब तक राघवेंद्र की पत्नी उमा और ससुर धनीराम सिंह ने मौके पर ही मौत हो चुका था। पुलिस ने गंभीर हालत आठ लोगों को तत्काल जिला अस्पताल में भर्ती कराया। डॉक्टर ने बताया की, इनमें से कुछ की हालत गंभीर बनी है। पिता-पुत्री की मौत से पूरे इलाके में हड़कम मच गया है। अपनी पत्नी को खो चुके राघवेंद्र बदहवास से हैं। अब इस हादसे के बाद वे उस घड़ी को कोस रहे हैं जब उन्होंने गाड़ी खरीदी।