कलयुगी चाचा: भतीजे को मारकर 1 महीने तक सूटकेस में रखा शव 

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली आबादी वाला शहर माना जाता है, वही यहा लोग दिनदहाड़े अपराध को अंजाम दे देते है. साथ ही हिंदुस्तान एक ऐसा शहर है जहां पे लोग अपने परिवार को सबसे ज्यादा मानते है, उनपे भरोसा करते है, लेकिन अगर आपका परिवार ही आपको धोका दे तो क्या आप अपने परिवार पे कभी भरोसा कर पाओगे, बता दे ऐसा ही दिल दहला देने वाला एक केस दिल्ली के स्वरूप नगर इलाके से आया है, यहां पे एक सात साल के बच्चे आशीष को उसके चाचा अवधेश ने 7 जनवरी को घर के पास खेलते वक्त अगवा कर लिया था. खबरों की माने तो उसने बच्चे को साइकिल दिलाने का लालच दिया और अगवा कर एक कमरे में उसकी हत्या कर दी. इस कलयुगी चाचा का नाम अवधेश  है. 

आपको बता दे बच्चे के चाचा ने हत्याकांड को अंजाम देने के बाद शव को पॉलीथिन में पैक करके सूटकेस में रख दिया. साथ ही इस कलयुगी चाचा ने कमरे में कुछ मरे हुए चूहे भी रख दिए. पड़ोसियों को जब बदबू आती थी तो कहता था कि घर के अंदर चूहा मरा हुआ है. बदबू कम करने के लिए उसने कमरे में बहुत सारे परफ्यूम रखे हुए थे, जो समय-समय पर डेड बॉडी पर छिड़कता रहता था. साथ ही ये हत्यारा कलयुगी चाचा लोगो को अपने रुतवा दिखने के लिए बताता था की पेशे से वह सीबीआई में काम करता है. और साथ ही कहता तयह की वह सबके बच्चों की नौकरी लगवा सकता है. इतना ही यूपीएससी अटैम्प्ट कर चुका है. 

बता दे सात साल के आशीष के गुमशुदा  होने के बाद उसके मां-बाप ने बच्चे की गुमशुदा की रिपोर्ट पुलिस में लिखवाई, रिपोर्ट लिखवाने के बाद पुलिस ने मासूम को तलाशने की बहुत कोशिश की लेकिन वो नहीं मिला. साथ ही आशीष के परिवार ने पड़ोस में रहने वाले आशीष के चाचा पर शक जताया लेकिन तब पुलिस ने उसे गंभीरता से नहीं लिया और अब उस मासूम की लाश उसके चाचा अवधेश के घर से बरामद हुई है. लाश मिलने के बाद पुलिस ने बचे के चाचा से सख्ती से पूछताज की, पूछताज में कलयुगी चाचा ने पुलिस को सारी बाते बताई की 7 जनवरी को उसने आशीष का अपहरण किया था. साथ ही अवधेश ने बताया कि इलाके लोग बताते थे कि बच्चे के माता-पिता उसे गाली देते हैं. इसलिए उनसे बदला लेने के लिए गुस्से में उसने बच्चे को मार दिया.

आपको बता दे उसने पुलिस को ये भी बताया की बच्चे को मारने से पहले उसने 15 लाख रुपये फिरौती मांगने का प्लान बनाया था, लेकिन हत्या कर देने और शव को ठिकाने नहीं लगा पाने की वजह से वह ऐसा नहीं कर सका था.  पुलिस को अवधेश पर पहले शक इसलिए नहीं हुआ क्योंकि वो हर समय परिवार के साथ ही रहता था. इतना ही नहीं पुलिस की जांच में भी वो सहयोग कर रहा था. अब पुलिस का शक इसलिए गहराया क्योंकि वो दो दिन से पुलिस का फ़ोन नही उठा रहा था. उससे सख्ती से पूछताछ की गई तो उसने अपना गुनाह कुबूल कर लिया. फिलहाल पुलिस ने इस कलयुगी चाचा को गिरफ्तार कर लिया है.