भारतीय सेना को सलाम : महिला ने गोली लगने के बाद भी बच्ची को दिया जन्म, सेना को कहा 'धन्यबाद'

एक गर्भवती महिला को जन्मू-कश्मीर में सुंजवां आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले के दौरान आतंकियों ने गोली मार दी थी.इस हादसे में घायल हुई गर्भवती महिला ने गोली लगने के बावजूद एक  बच्ची को जन्म दिया है.सुंजवां आर्मी कैंप के सेना के डॉक्टरों ने उसकी जान बचाया और उसने सी-सेक्शन के जरिये बच्ची की डिलिवरी कराने में सफल हो गए है.डिलिवरी होने के बाद कैंप के सेना के डॉक्टरों को  महिला ने शुक्रिया अधा किया है.

जानकारी के मुताबिक, महिला ने कहा, ‘’मेरी और मेरी बच्ची की जान बचाने के लिए मैं सेना का शुक्रिया अदा करती हूं.’’ आप को बता दे, ये बहादुर महिला आर्मी में राइफलमैन नजीर अहमद की पत्नी हैं. आतंकी हमले के दौरान दोनों घायल हो गए थे.वहीं, ऑपरेशन करने वाले सेना के डॉक्टरों ने कहा, ‘’यह सामान्य केस नहीं था. यह चुनौतीपूर्ण था. लेकिन जिस तरह से हमारी टीम ने काम किया उस पर हमें गर्व है. हमारी टीम ने बहुत अच्छा काम किया. मां और बच्चे दोनों पूरी तरह स्वस्थ हैं.’’जब आतंकियों ने आर्मी कैंप पर हमला किया था, तब महिला अपने क्वार्टर में ही थी.

आप को बता दे,  हमले में आतंकियों की गोली महिला के पैर पर लगी थी. जसि वजह से वह बुरी तरह जख्मी हो गई थी.घायल महिला को सेना के जवानों ने अपनी जान पर खेलकर महिला को मिलिट्री अस्पताल सतवारी पहुंचाया.बता दें पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने 10 फरवरी को जम्मू के सुंजवां आर्मी कैंप पर हमला कर दिया था. भारतीय सेना के पांच जवान  इस हमले में शहीद हो गए. वहीं, कई लोग घायल हो गए थे और एक स्थानीय नागरिक की मौत हो गई थी.भारतीय सेना ने भी हमले के बाद चार आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया था.