शर्मनाक: ओरिजनल आधार कार्ड नहीं होने पर अस्पताल के बाहर बच्चे को दिया जन्म

हमारे देश के  में ये एक शर्मनाक कर देने वाला मामला सामने आयी है. ऐसे में ये एक हादसा गुरुग्राम की है.  गर्भवती महिला का सरकारी अस्पताल में ओरिजनल आधार कार्ड नहीं होने के वजह से इलाज नहीं किया गया.इस कारण मजबूरी में महिला ने बच्चे को सड़क पर ही जन्म देना पड़ा.गुरुग्राम से आत्मा को झकजोर कर रख देने वाली खबर आई है जिस पर प्रधानमंत्री मोदी ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ जैसे योजना बनाते है. मुन्नी अपने इलाज के लिए गुरुग्राम के नागरिक अस्पताल पहुंची थी.

आप को बता दे,  दरअसल मुन्नी मध्यप्रदेश की रहने वाली है. वहां पहुंची मुन्नी को डॉक्टर जल्लाद नजर आए.भर्ती करने से पहले डॉक्टर ने इलाज के लिए उनका आधार कार्ड मांगा.लेकिन, मु्न्नी के पास आधार कार्ड नहीं था जसि वजह से डॉक्टर ने उसका इलाज करने से मना किया. उसके बाद मु्न्नी का  पति ने अपना आधार नंबर दिया. फिर भी  डॉक्टर नहीं माने और आधार की ओरिजनल कॉपी के लिए अड़े रहे.इस बीच मुन्नी की हालत ख़राब हो गया और उन्होंने अस्पताल के दरवाजे पर ही बच्चे को जन्म दिया.

जानकारी के मुताबिक, ऐसे हालत में भी अस्पताल वाले को शर्म नहीं आयी.जब मीडिया अस्पताल के बाहर पहुंचे तो अस्पताल ने महिला को भर्ती किया.इस मामले में अस्पताल की ओर शर्मनात बयान सामने आया है. अस्पताल प्रबंधन इस तरह की किसी घटना से इनकार कर रहा है. उनका कहना है कि हमने सिर्फ महिला को अल्ट्रासाउंड के लिए भेजा था.